अध्याय 7 : राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा

परिवहन   परिवहन तथा सेवाओं के आपूर्ति स्थानों से मांग स्थानों तक ले जाने हेतु परिवहन की आवश्यकता होती है कुछ व्यक्ति इसको उपलब्ध करवाने में संलग्न है जो व्यक्ति उत्पादन को परिवहन द्वारा उपभोक्ताओं तक पहुंचाते हैं उन्हें व्यापारी कहा जाता है अतः एक देश के विकास की गति Read More …

अध्याय 6 : विनिर्माण उद्योग

 विनिर्माण कच्चे पदार्थ को मूल्यवान उत्पादन में परिवर्तित कर अधिक मात्रा में वस्तुओं के उत्पादन को भी निर्माण या वस्तु निर्माण कहा जाता है उदाहरण लकड़ी को कागज में परिवर्तित करना गन्ने से चीनी लौह अयस्क से लौह इस्पात द्वितीयक क्रियाकलाप में लगे व्यक्ति कच्चे माल को परिष्कृत वस्तुओं में Read More …

अध्याय 5 : खनिज तथा ऊर्जा संसाधन

खनिज हमारे जीवन के अति अनिवार्य भाग है लगभग हर चीज जो हम इस्तेमाल करते हैं एक छोटी सुई से लेकर एक बड़ी इमारत तक यह फिर एक बड़ा जहाज आदि सभी खनिज से बने हैं   खनिज खनिज एक प्राकृतिक रूप से विद्यमान समरूप तत्व है जिसकी एक निश्चित Read More …

अध्याय 4 : कृषि

कृषि एक प्राथमिक चिड़िया है जो हमारे लिए अधिकांश खाद्यान्न उत्पन्न करती है खाद्यान्नों के अतिरिक्त यह विभिन्न उद्योगों के लिए कच्चा माल भी पैदा करती है इसके अतिरिक्त कुछ उत्पादों जैसे चाय कॉफी मसाले इत्यादि का भी निर्यात किया जाता है   कृषि के प्रकार 1 प्रारंभिक जीविका निर्वाह Read More …

अध्याय 3 : जल संसाधन

जल    हम जानते हैं कि धरातल जल से ढका हुआ है परंतु इसमें से प्रयोग में लाने योग्य लवणीय जल का अनुपात बहुत कम है और लवणीय जल हमें सतही अपवाह और फॉर्म जल स्रोत से प्राप्त होता है जिसका लगातार नवीकरण और पुनर्भरण जलीय चक्र द्वारा होता रहता Read More …

अध्याय 2 : वन एवं वन्य जीव संसाधन

 भारत में वनस्पति जात और प्राणी जात   भारत जैव विविधता के संदर्भ में विश्व के सबसे समृद्ध देशों में से एक है यहां विश्व की सारी जातियों की 8% संख्या लगभग 16 लाख पाई जाती है यह अभी खोजी जाने वाली उप जातियों से दो या 3 गुना है Read More …

अध्याय 1: संसाधन एवं विकास

संसाधन एक वस्तु जो हमारे आवश्यकताओं को पूरा करने में प्रयुक्त की जा सकती है और जिसको बनाने के लिए प्रौद्योगिकी उपलब्ध है जो आर्थिक रूप से संभाव्य और सांस्कृतिक रूप से माने हैं एक संसाधन है मानव प्रौधोगिकी द्वारा प्रकृति के साथ प्रिया करते हैं और अपने आर्थिक विकास Read More …

अध्याय 5 : उपभोक्ता अधिकार | Consumer Rights

 उपभोक्ता क्या है।उपभोक्ता अधिकार क्या है। उपभोक्ता के क्या अधिकार है?उपभोक्ता के कितने प्रकार होते हैं?उपभोक्ता सरक्षण अधिनियम 1986 क्या है?उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019   ☆ उपभोक्ता क्या है: उपभोक्ता किसी भी व्यवसाय का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है. यह वह व्यक्ति होता है जो किसी वस्तु या सेवा का Read More …

अध्याय 4 : वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था | Globalization and Indian Economy

भारतीय अर्थव्यवस्था। विदेश व्यापार कैसे बाजारों का एकीकरण करता है ? भारत में वैश्वीकरण का प्रभाव। वैश्विकरण निजीकरण उदारीकरण बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ विदेशी निवेश WTO विश्व व्यापार संगठन WB विश्व बैंक सेज SEZ।   ☆ भारत की अर्थव्यवस्था विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व में Read More …

अध्याय 3 : मुद्रा और साख | Currency and Credit

मुद्रा विनिमय का एक माध्यम। मुद्रा के आधुनिक रूप करेंसी , बैंकों में निक्षेप। बैंकों की ऋण संबंधी गतिविधियाँ।भारत में औपचारिक क्षेत्रक और अनौपचारिक क्षेत्रक में साख। मुद्रा का इस्तेमाल हमारे रोजाना के जीवन का एक बहुत बड़ा हिस्सा है। मुद्रा का इतिहास और विभिन्न समयों में मुद्रा के अलग-अलग Read More …