राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 | NCF 2005 PDF in Hindi

Spread the love

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005

○ ज्ञान के स्कूल के बाहरी जीवन से जोड़ा जाए।

○ पढ़ाई को रटने की प्रणाली से अलग किया जाए।

○ पाठ्यचर्या पाठ्यपुस्तक केंद्रित ही बस ना हो।

○ विद्यालय में दी जाने वाली शिक्षा को विभिन्न प्रकार की गतिविधियों से जोड़ा जाए।

○ राष्ट्रीय मूल्यों के प्रति अस्थावान विद्यार्थी तैयार किया जाए।

 

NCF = National curriculum framework

   “राष्ट्रीय पाठ्यचर्चा की रूपरेखा

NCF-2005 के अध्यक्ष- प्रोफेसर यशपाल

NCF क्या है? – ” शिक्षा के क्षेत्र में प्रमुख दस्तावेज”

❍ भारत में अब तक तीन राष्ट्रीय पाठ्यचर्या दस्तावेज बन चुके हैं जो इस प्रकार है।

○ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या 1975

○ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या 1986

○राष्ट्रीय पाठ्यचर्या 2000

 

❍ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005

2005 के ncf का प्रारंभ शिक्षा शास्त्री रविंद्र नाथ टैगोर “सभ्यता और प्रगति” को आधार मानकर किया गया था। भारत सरकार के द्वारा रूपरेखा तैयार करने के लिए यूजीसी के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर में 23 सदस्यों की समिति का गठन किया। इस समिति के द्वारा 21 राष्ट्रीय बिंदुओं को मद्देनजर रखते हुए 21 समूह का गठन किया गया। ncf-2005 का निर्माण मानव विकास संसाधन मंत्रालय की देखरेख में किया गया था ।

 

 ❍ NCF -2005 की उत्पत्ति रविंद्र नाथ टैगोर के निबंध ” सभ्यता व प्रगति” से हुआ है।

❍ NCF 2005 में रूपरेखा के तहत सभी भाषा में (आठवीं अनुसूची) किया गया अनुवाद।

 

❍ NCF 2005 का मुख्य उद्देश्य :- जीवन एवं ज्ञान के मध्य की दूरी को कम करना था इस प्रक्रिया में बच्चों के विद्यालय जीवन को बाहरी जीवन से जोड़ना चाहिए। NCF 2005 को प्राथमिक शिक्षा में लागू किया गया था इस अधिगम प्रक्रिया के माध्यम से विद्यार्थियों को रटने की प्रणाली से मुक्त कराना था ताकि विद्यार्थियों का चहुंमुखी विकास हो सके।

 

❍ NCF Full from एनसीएफ का पूरा नाम

राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा या National Curriculum Framework (NCF) 2005

 

❍ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा -2005

What Is NCF 2005?

○ बालकों को क्या और क्यो और कैसे पढ़ाया जाए, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या 2005 (National curriculum framework 2005) इन्हीं विषयों पर ध्यान केंद्रित कराने हेतु एक दस्तावेज है।

○राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 (NCF 2005)का उद्धरण रविंद्र नाथ टैगोर के निबंध “सभ्यता और प्रगति से हुआ है जिसमें उन्होंने बताया है कि सृजनात्मकता उदार आनंद बचपन की कुंजी है।

○राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 का अनुवाद संविधान की आठवीं अनुसूची

 

 

❍ NCF 2005 का मुख्य उद्देश्य जीवन एवं ज्ञान के मध्य की दूरी को कम करना था इस प्रक्रिया में

○ बच्चों के विद्यालय जीवन को बाहरी जीवन से जोड़ना चाहिए।

○ NCF 2005 को प्राथमिक शिक्षा में लागू किया गया था इस अधिगम प्रक्रिया के माध्यम से विद्यार्थियों को रटने की प्रणाली से मुक्त कराना था ताकि विद्यार्थियों का चहुंमुखी विकास हो सके।

○इसके अलावा शिक्षण अधिगम प्रक्रिया “बाल केंद्रित” हो ऐसी विषय सामग्री का उपयोग किया जाए जिससे प्रभावशाली व्यक्तित्व का निर्माण हो सके।

○ National curriculum framework 2005 का निर्माण NCERT द्वारा किया गया था एवं इसको पूर्ण करने का कार्य निदेशक प्रोफेसर कृष्ण कुमार के नेतृत्व में किया गया था

○इसका प्रमुख लक्ष्य “आत्मज्ञान” अर्थात विद्यार्थियों को अलग-अलग अनुभवों का अवसर देकर उन्हें स्वयं ज्ञान की प्राप्ति करनी होती है।
राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 के अनुसार हर विद्यार्थी की अपनी क्षमता और कौशल होते हैं तो हर विद्यार्थियों को उसे व्यक्त करने का मौका प्रदान किया जाना चाहिए।

 

❍ विशेष : NCF 2005 का Learning Without Burdon

○ पाठ्यक्रम शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, पाठ्य+ क्रम जिसमें पाठ्य का अर्थ है। “पढ़ने योग्य सामग्री” तथा “क्रम” का अर्थ है, “एक निश्चित व्यवस्था” अर्थात पढ़ने योग्य सामग्री की एक निश्चित व्यवस्था ही पाठ्यक्रम है।

○ पाठ्यक्रम अंग्रेजी भाषा की करिकुलम शब्द से बना है, तथा करिकुलम शब्द लैटिन भाषा कुर्रर शब्द से बना है जिसका अर्थ होता है “दौड़ का मैदान” अर्थात पाठ्यक्रम एक ऐसा दौर का मैदान है जिस पर दौड़ कर विद्यार्थी अपने द्वारा निर्धारित किए गए लक्ष्य को प्राप्त करता है।

फ्रोबेल के अनुसार– ” पाठ्यक्रम समस्त मानव जाति के गुणों का सार है”

 

❍ NCF 2005: शिक्षण गणित का उद्देश्य (The Objective of Teaching Mathematics)

○ गणित की विभिन्न शाखाओं – बीजगणित, संख्या, त्रिकोणमिति और ज्यामिति, असतत गणित और संभाव्यता और आँकड़ों से अवधारणाओं को समझना और दिखाना।

○ अपरिचित और परिचित दोनों स्थितियों में समस्याओं को हल करने के लिए उचित गणितीय कौशल और अवधारणाओं का उपयोग करें

○ समस्या-समाधान के सामान्य नियमों को सही ढंग से चुनें और लागू करें।

○छात्रों को तर्क और कल्पना में अमूर्तता की कल्पना करना और समस्याओं को हल करना।

○ विभिन्न प्रकार के गणितीय प्रतिनिधित्व जैसे – आरेख, सूत्र, चार्ट और टेबल, मॉडल और ग्राफ़ का उपयोग करें।

 

❍ NCF 2005: शिक्षण विज्ञान का उद्देश्य (The Objectives of Teaching Science)

○ कौशल प्राप्त करने और वैज्ञानिक ज्ञान के सत्यापन और पीढ़ी के लिए अग्रणी प्रक्रियाओं और तरीकों को समझने के लिए
विज्ञान के विकास और ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य का निर्माण करना।

○ प्रौद्योगिकी, विज्ञान और समाज के इंटरफेस में वैश्विक और स्थानीय मुद्दों से संबंधित और सराहना करने के लिए
पेशेवर क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए सैद्धांतिक ज्ञान और साथ ही व्यावहारिक कौशल प्राप्त करना।

○ कुछ मूल्यों को आत्मसात करने के लिए – ईमानदारी, सहयोग, अखंडता, पर्यावरण का संरक्षण, और जीवन के लिए चिंता – और महत्वपूर्ण सोच को विकसित करना।

 

❍ NCF का परिप्रेक्ष्य :-

○ रटने की विधि से शिक्षण को स्थानांतरित करना।

○ स्कूल के बाहर जीवन से ज्ञान को जोड़ना।

○ कक्षा सीखने में परीक्षा को एकीकृत करने और इसे और अधिक लचीला बनाने के लिए।

○पाठ्यक्रम को समृद्ध करने के लिए ताकि यह पाठ्यपुस्तकों से परे हो।

○ देश की लोकतांत्रिक राजनीति के भीतर चिंताओं को ध्यान में रखते हुए एक अति-सवारी पहचान का पोषण करना।

 

❍ सीखना और ज्ञान :-

○ सीखना एक सुखद कार्य होना चाहिए जहाँ बच्चों को यह महसूस होना चाहिए कि वे मूल्यवान हैं और उनकी आवाज़ सुनी जाती है।

○ पाठ्यक्रम संरचना और स्कूल को छात्रों को सुरक्षित और मूल्यवान महसूस करने के लिए स्कूल को संतोषजनक स्थान बनाने के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए।

○ विकलांग छात्रों की परवाह किए बिना हर छात्र की आवश्यकताओं के अनुरूप एक पाठ्यक्रम का पालन करने के लिए समावेशी शिक्षा को प्राथमिकता और लचीलापन दिया जाना चाहिए।

○ रचनात्मक शिक्षण को पाठ्यक्रम का हिस्सा होना चाहिए। छात्रों को चुनौतियों से निपटने, रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने और छात्रों के लिए सक्रिय भागीदारी के लिए स्थितियों और अवसरों का निर्माण करना पड़ता है।

 

❍ पाठ्यक्रम क्षेत्र :- भाषा – तीन भाषा सूत्र प्रणाली

○ पहली भाषा मातृभाषा या क्षेत्रीय भाषा होनी चाहिए।

○ दूसरी भाषा – हिंदी भाषी राज्यों में, दूसरी भाषा कुछ अन्य आधुनिक भारतीय भाषा या अंग्रेजी होगी, और – गैर-हिंदी भाषी राज्यों में, दूसरी भाषा हिंदी या अंग्रेजी होगी।

○ तीसरी भाषा – हिंदी भाषी राज्यों में, तीसरी भाषा अंग्रेजी या एक आधुनिक भारतीय भाषा होगी

 

○ गणित सीखने पर जोर यह है कि सभी छात्र गणित सीखने की आवश्यकता को जान सकते हैं।

○ विज्ञान – शिक्षण विज्ञान के शिक्षण को विज्ञान के उद्देश्यों और सिद्धांतों और इसके अनुप्रयोगों को सीखना है, जो कि संज्ञानात्मक विकास के चरण के अनुरूप हैं

○ सामाजिक विज्ञान – सामाजिक विज्ञान एक विषय स्कूलों में शामिल है ताकि छात्रों को उनकी रुचियों और योग्यताओं का पता लगाने के लिए उपयुक्त विश्वविद्यालय पाठ्यक्रम और / या करियर चुनने में सहायता मिल सके

○ स्वास्थ्य और शारीरिक शिक्षा – बच्चों में स्वास्थ्य, बीमारी, दुर्घटनाओं और शारीरिक फिटनेस की एक एकीकृत और समग्र समझ प्रदान करने के लिए सैद्धांतिक और व्यावहारिक जानकारी प्रदान करना।

○ कंप्यूटर – स्कूलों में कंप्यूटरों का परिचय परिणाम और कौशल सेट के एक पूर्व निर्धारित सेट से आगे बढ़ना है जो छात्रों को 16 व्याख्यात्मक तर्क और अन्य उच्च-क्रम कौशल विकसित करने में सक्षम बनाता है।

○ कला शिक्षा – स्कूलों में कला शिक्षा को शामिल करने का उद्देश्य छात्रों के व्यक्तित्व और मानसिक स्वास्थ्य के पूर्ण विकास के लिए, सांस्कृतिक विरासत की सराहना करना और एक-दूसरे के काम के लिए सम्मान विकसित करना और पर्यावरण से जुड़ना है।

 

❍ स्कूल और कक्षा का वातावरण :-

○ बुनियादी ढांचे, पर्याप्त प्रकाश और वेंटिलेशन , छात्र शिक्षक अनुपात, स्वच्छता और सुरक्षित वातावरण के संदर्भ में छात्रों के लिए भौतिक वातावरण को अनुकूल बनाए रखना है ।

 

❍ प्रणालीगत में सुधार :-
NCF ने शिक्षा प्रणाली में सुधार लाने के लिए एक ऐसे पाठ्यक्रम के बारे में लाने का लक्ष्य रखा है जो शिक्षार्थी केंद्रित है, एक लचीली प्रक्रिया है

 

परिप्रेक्ष्य :-

○ वर्ष 1986 में ” राष्ट्रीय शिक्षा नीति “:- राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 के अनुसार सभी को शिक्षा के समान अवसर प्रदान करने की बात कही गयी। शिक्षा प्रदान करने का माध्यम मात्रभाषा और क्षेत्रीय भाषा को बनाया गया। शिक्षा को प्राथमिक शिक्षा, उच्च प्राथमिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, उच्च माध्यमिक शिक्षा एवं उच्च शिक्षा में विभाजित कर दिया गया।

 

❍ नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 :-हमें एक नई तरह की शिक्षा शक्ति विकसित करने का एक इकोसिस्टम प्रस्तावित करती है, जिसका रचनात्मक क्रियान्वयन ही हमें भविष्य में नए भारत के निर्माण के लिए आधारभूत शक्ति दे पाएगा।

 

❍ शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 वर्ष 2002 में 86वें संवैधानिक संशोधन से शिक्षा के अधिकार को संविधान के भाग- III में एक मौलिक अधिकार के तहत शामिल किया गया। इसे अनुच्छेद 21A के अंतर्गत शामिल किया गया, जिसने 6-14 वर्ष के बच्चों के लिये शिक्षा के अधिकार को एक मौलिक अधिकार बना दिया। इसने एक अनुवर्ती कानून शिक्षा के अधिकार अधिनियम, 2009 का प्रावधान किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.