अध्याय 18 : वायु तथा जल का प्रदूषण | Air and Water Pollution

Spread the love

 जल जीवन के लिए आवश्यक है। पृथ्वी पर जीवन के लिए वायुमंडल आवश्यक है। वायु तथा जल प्रदूषण के कारण एवं उपाय।

पृथ्वी पर जीवन के लिए वायुमंडल आवश्यक है।

❍ जिस वायु का उपयोग हम साँस लेने के लिए करते हैं , वास्तव में वह अनेक गैसों का मिश्रण होती है।

 

○ वायु :- नाइट्रोजन 78% , ऑक्सीजन 21% , शेष 1% में कार्बनडाइऑक्साइड , कुछ अन्य गैस , जलवाष्प तथा धूल के कण होते हैं।

○ वायु प्रदूषण :- जब वायु में अनचाहे पदार्थों के द्वारा संदूषित हो जाती है जो सजीव तथा निर्जीव दोनों के लिए हानिकारक है।

 

○ वायु प्रदुषण के कारण :-

1. प्राकृतिक :-

• ज्वालामुखी का फटना
• वनों में लगा आग
• वनों की अंधाधुंध कटाई

 

2. मानवीय क्रियाकलापों

• फैक्टरी का धुँआ।
• विद्युत संयंत्र
• वाहनों का धुआं।

 

○ वाहन अधिक मात्रा में कार्बन मोनोऑक्साइड , कार्बन डाइऑक्साइड , नाइट्रोजन ऑक्साइड तथा धुआँ उत्पन्न करते हैं।

○ पेट्रोल तथा डीजल जैसे ईंधनों के अपूर्ण दहन से कार्बन मोनोऑक्साइड उत्पन्न होती हैं।

दमा , खाँसी , बच्चों में साँस के साथ हरहराहत उत्पन्न हो जाते हैं।

• क्लोरोफ्लोरो कार्बन (CFC) के द्वारा वायुमंडल की ओजोन परत क्षतिग्रस्त हो जाती हैं।

• अम्लीय वर्षा के कारण स्मारक संगरमरमर का संक्षारण होता है।

 

○ सर्वोच्च न्यायालय :- ताजमहल को सुरक्षित रखने के लिए उद्योगों को CNG ( संपीडित प्राकृतिक गैस ) तथा LPG ( द्रवित पेट्रोलियम गैस ) जैसे ईंधनों का उपयोग करने के आदेश दिए गए हैं।

• सूर्य की किरणें वायुमंडल से गुजरने के पश्चात पृथ्वी की सतह को गर्म करती हैं।

• मानव क्रियाकलापों के कारण निरन्तर CO2 वातावरण में मोचित हो रही है जिससे वह क्षेत्र घट रहा है।

 

○ वायुमंडल के औसत ताप में निरन्तर वृद्धि हो रही है इसे विश्व उष्णन कहते हैं।

• पृथ्वी के ताप में केवल 0.5° C जितनी कम वृद्धि के इतने गंभीर परिणाम हो सकते है।

• हिमालय के गंगोत्री हिमनद विश्व उष्णन के कारण पिघलने आरंभ हो गए हैं।

• दिल्ली संसार में सर्वाधिक प्रदूषित नगर है।

जल जीवन के लिए आवश्यक है।

 

○ जल की आवश्यकताएँ :- पीने , नहाने , खाना पकाना , कपड़े धोना आदि।

○ जल कहाँ से प्राप्त करते हैं :- नदियों , झरनों , तालाबों , कुओं अथवा हैडपंप से जल प्राप्त करते हैं।

 

○ जल :- जल एक महत्वपूर्ण नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन है , भूपृष्ठ का तीन-चौथाई भाग जल से ढका है।

लगभग 3.5 अरब वर्ष पहले जीवन , आदि महासागरों में ही प्रारंभ हुआ था।

अलवणीय जल 3℅ प्रतिशत ही है। – बर्फ़ के रूप में अंटाकर्टिका , ग्रीनलैंड , नदियों , झीलों , तालाबों , ध्रुवीय बर्फ़ , भौमजल और वायुमंडल में पाया जाता है।

 

○ जल प्रदूषण :- जब भी वाहित मल , विषैले रसायन , गाद आदि जैसे हानिकारक पदार्थ जल में मिल जाते है जिसे जल प्रदूषण कहते हैं।

○ जल कैसे प्रदूषित होता है।

1- औद्योगिक कूड़ा

2- कृषि क्षेत्र में अनुचित गतिविधियां

3- सामाजिक और धार्मिक रीति-रिवाज, जैसे पानी में शव को बहाने, नहाने, कचरा फेंकने

5- जहाजों से होने वाला तेल का रिसाव

6- एसिड रैन (एसिड की बारिश) गोलबल वार्मिंग के कारण

1985 में नदियों को बचाने के लिए गंगा कार्य परियोजना शुरू हुआ।
○ WWF विश्वव्यापी कोष ने बताया कि संसार के दस नदियों का अस्तित्व खतरे में है।

 

○ जल संरक्षण :- जल का विवेकपूर्ण उपयोग किया जाए और सावधनी बरतें , जिससे जल व्यर्थ न

○ जल की बचत

• कम उपयोग (Reduce)
• पुनः उपयोग (Reuse)
• पुनः चक्रण (Recycle)
• पुनः प्राप्त करना (Recover)
• उपयोग न करना (Refuse)

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.