अध्याय 6 : संचार माध्यमों को समझना

Spread the love

 इस अध्याय में आप संचार माध्यमों के बारे में जानेंगे जिसके अंतर्गत रेडियो टीवी अखबार इंटरनेट इत्यादि आते हैं यह हमारे दैनिक जीवन पर किस प्रकार से प्रभाव डालते हैं और हम तक सूचनाएं किस प्रकार से पहुंचाते हैं

मीडिया अंग्रेजी के मीडियम शब्द का बहुवचन है और इसका तात्पर्य उन विभिन्न तरीकों से हैं जिनके द्वारा हम समाज में विचारों का आदान प्रदान करते हैं मीडिया का अर्थ माध्यम

जनसंचार माध्यम टीवी रेडियो और अखबार संचार माध्यमों के रूप है जिनकी पहुंच लाखों लोगों तक है देश और विदेश के जनसमूह तक है इसलिए इन्हें जनसंचार माध्यम या मास मीडिया कहते हैं

 

 

 संचार माध्यम और तकनीक

अखबार टेलीविजन और रेडियो लाखों लोगों तक पहुंच सकते हैं क्योंकि इनमें एक विशिष्ट प्रकार की तकनीक का उपयोग किया जाता है
जनसंचार माध्यम के इस्तेमाल में लाई जा रहे तकनीक निरंतर बदल रही है और मशीनों को बदलकर आधुनिकता बनाने से संचार माध्यमों को अधिक लोगों तक पहुंचाने में मदद मिलती है  जनसंचार माध्यम में आज संपूर्ण विश्व को एक जुट कर दिया है
 

 

जनसंचार माध्यम और धन

जनसंचार के माध्यम वह तकनीक बहुत अधिक खर्चीली होती है जैसे टीवी स्टूडियो समाचार के स्टूडियो तथा अन्य लोगों का वेतन इसके परिणाम स्वरूप अधिकांश टीवी चैनल और समाचार पत्र किसी बड़े व्यापारिक प्रतिष्ठान का भाग होते हैं
जनसंचार माध्यम को अधिक धन की आवश्यकता होती है जिसके लिए वह निरंतर धन अर्जित करते हैं इसका एक तरीका विज्ञापन है जिससे जनसंचार माध्यम को धन की पूर्ति होती है
 

 

संचार माध्यम और लोकतंत्र

लोकतंत्र में जन संचार की भूमिका अत्यधिक महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि घटनाओं पर चर्चा करने में इसका अहम योगदान है
उदाहरण के लिए संचार माध्यमों से नागरिक जान सकते हैं कि सरकार किस प्रकार का कार्य कर रही है यदि लोग चाहे तो समाचारों के आधार पर कार्यवाही भी कर सकते हैं मंत्रियों को पत्र लिख सकते हैं सार्वजनिक विरोध आयोजित कर सकते हैं हस्ताक्षर अभियान चला सकते हैं  इसलिए आवश्यक है की जनसंचार माध्यम सही जानकारी वह संतुलित रिपोर्ट प्रस्तुत करें

 

संतुलित रिपोर्ट 

संतुलित रिपोर्ट वह होती है किसी भी विषय पर हर दृष्टिकोण से चर्चा की जाती है फिर पाठकों को स्वयं अपनी राय बनाने के लिए स्वतंत्र छोड़ दिया जाता है स्वतंत्र संचार माध्यम से तात्पर्य है कि उनके द्वारा दिए जाने वाले समाचार को कोई भी नियंत्रित या प्रभावित ना करें

 

संचार माध्यम स्वतंत्र नहीं है इसके मुख्य दो कारण है

सरकार का उन पर नियंत्रण सेंसरशिप के द्वारा

व्यापारिक प्रतिष्ठानों का नियंत्रण धन के द्वारा
 

 

मसौदा तय किया जाना

कुछ खास विषय पर ध्यान केंद्रित करके संचार माध्यम हमारे विचारों भावनाओं और कार्यों को प्रभावित करते हैं और हमारा ध्यान उन मुद्दों की ओर आकर्षित करते हैं हमारे जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने और हमारे विचारों को निर्मित करने में मुख्य भूमिका होने के कारण ही प्राय यह कहा जा सकता है कि संचार माध्यम ही हमारा मसूदा या एजेंडा तय करते हैं
 

 

परंतु कई बार जनसंचार माध्यम महत्वपूर्ण विषय पर ध्यान केंद्रित करने में असफल रहते हैं जैसे कि पीने योग्य जल वह जरूरी समस्याएं परंतु इसके बजाय वह खेलकूद मनोरंजन जैसे विषयों पर अधिक ध्यान देते हैं

 

सेंसरशिप : सरकार की उस शक्ति अधिकार से है जिसके अंतर्गत सरकार कुछ विवरण प्रकाशित करने या प्रदर्शित करने पर रोक लगा सकती है

 

सार्वजनिक विरोध : इसमें विशाल संख्या में लोग एकजुट होकर किसी विषय पर खुले रूप से अपना विरोध प्रदर्शन करते हैं जैसे रैली आयोजित करना धरना देना सड़कों को अवरुद्ध करना

 

 

 

अध्याय 7 : हमारे आस पास के बाजार

Leave a Reply

Your email address will not be published.