अध्याय 7 : राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा

Spread the love

परिवहन

 

परिवहन तथा सेवाओं के आपूर्ति स्थानों से मांग स्थानों तक ले जाने हेतु परिवहन की आवश्यकता होती है कुछ व्यक्ति इसको उपलब्ध करवाने में संलग्न है जो व्यक्ति उत्पादन को परिवहन द्वारा उपभोक्ताओं तक पहुंचाते हैं उन्हें व्यापारी कहा जाता है अतः एक देश के विकास की गति वस्तुओं तथा सेवाओं के उत्पादन के साथ उनके एक स्थान से दूसरे स्थान तक वहन किस विधा पर निर्भर करती है

वस्तुओं तथा सेवाओं का लाना ले जाना पृथ्वी के तीन महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर किया जाता है स्थल जल तथा वायु इन्हीं के आधार पर परिवहन को स्थल जल व वायु परिवहन में वर्गीकृत किया जा सकता है

 

 

 परिवहन के साधन

 

1. स्थल

सड़क परिवहन
रेल परिवहन
पाइपलाइन

 

2, जल परिवहन

आंतरिक जल परिवहन
समुद्री परिवहन

 

3, वायु परिवहन

A घरेलू विमान सेवा
सार्वजनिक प्राधिकरण
निजी विमान सेवा

B अंतरराष्ट्रीय विमान सेवा

 

 

परिवहन

 

1 स्थल परिवहन

भारत विश्व के सर्वाधिक सड़क जाल वाले देशों में से एक है यह सड़क जाल लगभग 54.7 लाख किलोमीटर है (2014-15) भारत में सड़क परिवहन रेल परिवहन से पहले प्रारंभ हुआ निर्माण तथा व्यवस्था में सड़क परिवहन रेल परिवहन की अपेक्षा अधिक सुविधाजनक है रेल परिवहन की अपेक्षा सड़क परिवहन के प्रति महत्वता निम्नलिखित कारणों से है

a) रेलवे लाइन की अपेक्षा सड़क की निर्माण लागत बहुत कम है

अपेक्षाकृत उबड़ खाबड़ व ऊंचे विभागों पर सड़कें बनाई जा सकती हैं

अधिक ढाल प्रवणता तथा पहाड़ी क्षेत्रों में भी सड़क के निर्माण की जा सकती हैं

अपेक्षाकृत कम व्यक्तियों कम दूरी व कम वस्तुओं के परिवहन में सड़क अधिक उपयोगी है

यह घर-घर सेवा उपलब्ध करवाता है तथा सामान चढ़ाने में उतारने की लागत भी अपेक्षाकृत कम होती है

सड़क परिवहन अन्य परिवहन साधनों के उपयोग में एक कड़ी के रूप में भी कार्य करता है

 

 

 

भारत में सड़कों की क्षमता के अनुसार उन्हें 6 वर्गों में विभाजित किया गया है

 

1) स्वर्णिम चतुर्भुज महाराज मार्ग

भारत सरकार ने दिल्ली कोलकाता चेन्नई मुंबई से दिल्ली को जोड़ने वाली 6 लेन वाली महाराज मार्गों की सड़क परियोजना प्रारंभ की इस परियोजना के तहत दो गलियारे प्रस्तावित हैं

प्रथम उत्तर दक्षिण गलियारा जो श्रीनगर को कन्याकुमारी से जोड़ता है

द्वितीय जो पूर्व पश्चिम गलियारा जो सिलचर तथा पोरबंदर को जोड़ता है

इस महा राजमार्गों का प्रमुख उद्देश्य भारत के मेगा सिटी के मध्य की दूरी व परिवहन समय को न्यूनतम करना है यह राजमार्ग परियोजना भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHIA)के अधिकार क्षेत्र में है

 

 

 

2) राष्ट्रीय राजमार्ग

राष्ट्रीय राजमार्ग देश के दूरस्थ भागों को जोड़ते हैं यह प्राथमिक सड़क तंत्र है जिनका निर्माण व रखरखाव केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) के अधिकार क्षेत्र में है अनेक प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग उत्तर से दक्षिण तथा पूर्व से पश्चिम दिशा में फायदे हैं दिल्ली में अमृतसर के मध्य ऐतिहासिक शेरशाह सूरी मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या एक के नाम से जाना जाता है

 

 

3) राज्य राजमार्ग

राज्यों की राजधानियों को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली सड़क राज्य राजमार्ग कहलाती है राज्य तथा केंद्र शासित प्रदेश क्षेत्रों में इनकी व्यवस्था तथा निर्माण का दायित्व राज्य के सार्वजनिक निर्माण विभाग (PWD) का होता है

 

4) जिला मार्ग

यह सड़के जिला के विभिन्न प्रशासनिक केंद्रों को जिला मुख्यालय से जोड़ती हैं इन सड़कों की व्यवस्था का उत्तरदायित्व जिला परिषद का है

 

5) सीमांत सड़कें

उपरोक्त सड़कों के अतिरिक्त भारत सरकार प्राधिकरण के अधीन सीमा सड़क संगठन है जो देश के सीमांत क्षेत्रों में सड़क का निर्माण व उनकी देखरेख करता है

यह संगठन 1960 में बनाया गया जिसका कार्य उत्तर तथा उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में सामरिक महत्व की सड़कों का विकास करना था

 

6) अन्य सड़कें
इस वर्ग के अंतर्गत बिछड़ के आती हैं जो ग्रामीण क्षेत्रों तथा गांवों को शहरों से जोड़ती हैं प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क परियोजना के तहत इन सड़कों के विकास को विशेष प्रोत्साहन मिला है तथा गांव से शहरों तक पक्की सड़कें बनी है

 

 

सड़क घनत्व

प्रति 100 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में सड़कों की लंबाई को सड़क घनत्व कहा जाता है

देश में सड़कों का वितरण एक समान नहीं है इनका घनत्व जम्मू कश्मीर में 12.14 किलोमीटर प्रति 100 वर्ग किलोमीटर से केरल में 517.77 किलोमीटर प्रति 100 वर्ग किलोमीटर तक है

जबकि वर्ष 31 मार्च 2011 के अनुसार सड़कों का औसत राष्ट्रीय घनत्व 142.68 किलोमीटर प्रति 100 वर्ग किलोमीटर था

 

 

रेल परिवहन

भारत में रेल परिवहन वस्तु तथा यात्रियों के परिवहन का प्रमुख साधन है रेल परिवहन अनेक कार्यों में सहायक है जैसे व्यापार भ्रमण तीर्थ यात्रा वह लंबी दूरी तक सामान का परिवहन आदि

भारतीय रेल देश की अर्थव्यवस्था उद्योग व कृषि के त्रिव गति से विकास के लिए उत्तरदाई है 31 मार्च 2016 को भारतीय रेल परिवहन की मार्ग्य लंबाई 66687 किलोमीटर थी जिस पर 7137 स्टेशन से तथा इसमें 11122 रेल इंजन 545006 यात्री सेवा वाहन 6899 अन्य कोच वाहन 251256 माल गाड़ी शामिल है

रेल परिवहन के वितरण को प्रभावित करने वाले कारक भू आकृति आर्थिक व प्रशासनिक कारक प्रमुख है उत्तरी मैदान अपनी विस्तृत समतल भूमि सघन जनसंख्या घनत्व संपन्न कृषि व प्रचूर संसाधनों के कारण रेल परिवहन के विकास व समृद्धि में सहायक है

 

 

रेल परिवहन के लाभ

परिवहन का सस्ता साधन
लंबी दूरी के लिए आवश्यक
भारी वस्तुओं को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में सहायक

 

रेल परिवहन की हानियां

घर से घर तक परिवहन की व्यवस्था उपलब्ध नहीं

निर्माण व रखरखाव में अधिक पूंजी की आवश्यकता

दूरस्थ व पहाड़ी क्षेत्रों में अनुपयोगी

 

 

पाइपलाइन

पाइपलाइन एक नया परिवहन का साधन है पहले पाइपलाइन का उपयोग शहरों में उद्योगों में पानी पहुंचाने हेतु होता था परंतु आज इसका उपयोग कच्चा तेल पेट्रो उत्पाद तथा तेल से प्राप्त प्राकृतिक गैस तथा गैस क्षेत्र से उपलब्ध गैस शोध शालाओं उर्वरक कारखाना वह बड़े ताप विद्युत ग्रहों तक पहुंचाने में किया जाता है

 

 

देश में पाइपलाइन परिवहन के तीन प्रमुख जाल हैं

1 ऊपरी असम के तेल क्षेत्रों से गुवाहाटी बरौनी व इलाहाबाद के रास्ते कानपुर तक

2 गुजरात में सलाया से वीरम गांव मथुरा दिल्ली व सोनीपत के रास्ते पंजाब में जालंधर तक

3 गैस पाइपलाइन गुजरात में हजीरा को उत्तर प्रदेश में जगदीशपुर से जोड़ती है यह मध्यप्रदेश के विजयपुर के रास्ते होकर जाती है

 

 

 

जल परिवहन

जल परिवहन परिवहन का सबसे सस्ता साधन है यह भारी व स्थूलकाय वस्तुएं ढोने में अनुकूल है

भारत में अंतर स्थलीय नौसंचालन जलमार्ग 14500 किलोमीटर लंबा है इसमें केवल 5685 किलोमीटर मार्ग ही मशीनी कृत नौकाओं द्वारा तय किया जाता है

 

निम्न जल मार्गों को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय जलमार्ग घोषित किया गया है

1 हल्दिया तथा इलाहाबाद के मध्य गंगा जल मार्ग जो 16 से 20 किलोमीटर लंबा है नोगम्य जलमार्ग संख्या -1

2 सदिया वे धुबरी के मध्य 891 किलोमीटर लंबा ब्रह्मपुत्र नदी जलमार्ग नोगम्य जलमार्ग संख्या -2

3 केरल में पश्चिमी तटीय नहर जलमार्ग संख्या 3 (205 km)

4 काकीनाडा और पांडुचेरी नहर स्ट्रेच के साथ-साथ गोदावरी और कृष्णा नदी का विशेष विस्तार राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 4 (1078 km)

5 मातई नदी महा नदी के डेल्टा चैनल ब्राम्हणी नदी और पूर्वी तटीय नहर के साथ ब्राह्मणी नदी का विशेष विस्तार राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या 5 (588 km)

 

 

प्रमुख समुद्री पतन

भारत की 7516.6 किलोमीटर लंबी समुद्री तट रेखा के साथ 12 प्रमुख तथा 200 मध्यम व छोटे पतन है यह प्रमुख पतन देश का 95% विदेशी व्यापार संचालित करते हैं

 

कांडला पतन

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद कच्छ में कांडला पतन पहले पतन के रूप में विकसित किया गया था यह एक ज्वारीय पतन है

 

मुंबई पतन

मुंबई पतन जिसके प्राकृतिक खुले विस्तृत व सुचारू पोताश्रय हैं मुंबई पतन के अधिक परिवहन को ध्यान में रखकर इसके सामने जवाहरलाल नेहरू पतन विकसित किया गया जो इसे पूरे क्षेत्र को एक समूह वतन की सुविधा भी प्रदान कर सके

 

मारमागाओ पतन

लौह अयस्क के निर्यात के संदर्भ में मारमागाओ पतन देश का महत्वपूर्ण पतन है यह देश के कुल निर्यात का 50% लोग अयस्क निर्यात करता है

 

कोच्चि पतन

सुदूर दक्षिण पश्चिम में कोच्चि पतन है यह एक लंगूर के मुहाने पर स्थित एक प्राकृतिक पतन है

 

तूतीकोरिन पतन

पूर्वी तट के साथ तमिलनाडु में दक्षिणी पूर्वी छोर पर तूतीकोरिन पतन है यह प्राकृतिक पोताश्रय है

 

 

वायु परिवहन

वायु परिवहन सबसे तेज आरामदायक प्रतिष्ठित परिवहन का साधन है इसके द्वारा अति दुर्गम स्थानों जैसे ऊंचे पर्वत मरुस्थल और घने जंगलों व लंबे समुद्री रास्तों को सुगमता से पार किया जा सकता है

सन 1953 में वायु परिवहन का राष्ट्रीयकरण किया गया व्यवहारिक तौर पर एयर इंडिया तथा कई निजी एयरलाइंस घरेलू विमान सेवाएं भी उपलब्ध कराती है एयर इंडिया अंतरराष्ट्रीय वायु सेवा भी प्रदान करती है

हवाई यात्रा सभी व्यक्तियों की पहुंच में नहीं है केवल उत्तर पूर्वी राज्यों में इन सेवाओं को आम आदमी तक उपलब्ध कराने हेतु विशेष प्रबंधन किए गए हैं

 

 

संचार सेवाएं

जब से मानव पृथ्वी पर अवतरित हुआ है उसने विभिन्न संचार माध्यमों का प्रयोग किया है संदेश प्राप्त करता या संदेश भेजने वाले के गतिविधि रहते हुए भी लंबी दूरी का संचार बहुत आसान है निजी दूरसंचार तथा जनसंचार में दूरदर्शन रेडियो समाचार पत्र प्रेस तथा सिनेमा आदि देश में महत्वपूर्ण संचार साधन है

भारत का डाक संचार तंत्र विश्व का सबसे बेहतर संचार तंत्र है

बड़े शहरों में नगरों में डाक संचार में शीघ्रता हेतु हाल ही में 6 डाक मार्ग बनाए गए हैं जिन्हें राजधानी मार्ग मेट्रो चैनल ग्रीन चैनल व्यापार चैनल भारी चैनल तथा दस्तावेज चैनल के नाम से जाना जाता है

दूरसंचार तंत्र में भारत एशिया महाद्वीप में सबसे आगे है नगरीय क्षेत्रों के अतिरिक्त भारत के 2 तिहाई से अधिक गांव एस टी डी दूरभाष सेवा से जुड़े हैं

जनसंचार मानव को मनोरंजन के साथ बहुत से राष्ट्रीय कार्यक्रमों व नीतियों के विषय में जागरूक करता है इसमें रेडियो दूरदर्शन समाचार पत्र पत्रिकाएं किताबें तथा चलचित्र शामिल है आकाशवाणी ऑल इंडिया रेडियो राष्ट्रीय क्षेत्रीय तथा स्थानीय भाषा में देश के विभिन्न भागों में अनेक वर्गों के व्यक्तियों के लिए विशेष कार्यक्रम प्रसारित करता है

 

 

अंतरराष्ट्रीय व्यापार

राज्यों में देशों मैं व्यक्तियों के बीच वस्तुओं का आदान प्रदान व्यापार कहलाता है बाजार एक ऐसी जगह है जहां इसका विनिमय होता है

दो देशों के मध्य यह व्यापार अंतरराष्ट्रीय व्यापार कहलाता है यह समुद्री हवाई व स्थानीय मार्गों द्वारा हो सकता है

एक देश के अंतरराष्ट्रीय व्यापार की प्रगति उसके आर्थिक वैभव का सूचक है इसलिए इसे राष्ट्र का आर्थिक बैरोमीटर भी कहा जाता है

 

विश्व के सभी भौगोलिक प्रदेशों तथा सभी व्यापारिक खंडों के साथ भारत के व्यापारिक संबंध है

2016-17 तक निर्यात वाली वस्तुएं इस प्रकार हैं

कृषि वर्षों से संबंधित उत्पाद 8.64%

आधार धातुएं 6.9%

रत्न व जवाहरात 17.02%

रसायन तथा संबंधित उत्पाद 12.06%

 

भारत में आयातित वस्तुएँ

कच्चा पेट्रोलियम तथा उत्पाद 22.4%

रत्न व जवाहरात 12.8%

आधार धातुएं 5.9%

मशीनें 8.9%

कृषि तथा अन्य उत्पाद 5.89%

 

पर्यटन एक व्यापार के रूप में

पिछले तीन दशकों में भारत में पर्यटन उद्योग में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है वर्ष 2014 की अपेक्षा वर्ष 2015 के दौरान देश में विदेशी पर्यटन के आगमन में 4.5% वृद्धि दर्ज की गई है जिसमें 135193 करोड़ विदेशी मुद्रा प्राप्त हुई है

वर्ष 2015 में भारत में 80.3 लाख से पर्यटन आए 150 लाख से अधिक व्यक्ति पर्यटन उद्योग में प्रत्यक्ष रूप से संलग्न है

विदेशी पर्यटन भारत में विरासत पर्यटन रोमांचकारी पर्यटन सांस्कृतिक पर्यटन चिकित्सा पर्यटन तथा व्यापारिक पर्यटन के लिए आते हैं पर्यटन उद्योग के विकास हेतु विभिन्न प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.