मनोविज्ञान क्या है? ,मनोविज्ञान की परिभाषा तथा अर्थ Definition and Meaning of Psychology

Spread the love

 

❍ मनोविज्ञान (Psychology) वह शैक्षिक व अनुप्रयोगात्मक विद्या है जो प्राणी (मनुष्य, पशु आदि) के मानसिक प्रक्रियाओं (mental processes), अनुभवों तथा व्यक्त व अव्यक्त दाेनाें प्रकार के व्यवहाराें का एक क्रमबद्ध तथा वैज्ञानिक अध्ययन करती है ,

 

दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि मनोविज्ञान एक ऐसा विज्ञान है जो क्रमबद्ध रूप से (systematically) प्रेक्षणीय व्यवहार (observable behaviour) का अध्ययन करता है तथा प्राणी के भीतर के मानसिक एवं दैहिक प्रक्रियाओं जैसे – चिन्तन, भाव आदि तथा वातावरण की घटनाओं के साथ उनका संबंध जोड़कर अध्ययन करता है।

 

इस परिप्रेक्ष्य में मनोविज्ञान को व्यवहार एवं मानसिक प्रक्रियाओं के अध्ययन का विज्ञान कहा गया है। ‘व्यवहार’ में मानव व्यवहार तथा पशु व्यवहार दोनों ही सम्मिलित होते हैं। मानसिक प्रक्रियाओं के अन्तर्गत संवेदन (Sensation), अवधान (attention), प्रत्यक्षण (Perception), सीखना (अधिगम), स्मृतिचिन्तन आदि आते हैं।

 

 

❍ मनोविज्ञान का अतीत बहुत लम्बा है जबकि इतिहास बहुत छोटा है।

❍ मनोविज्ञान के जनक – अरस्तू

❍ मनोविज्ञान के जननी – दर्शनशास्त्र

❍ मनोविज्ञान – दर्शनशास्त्र की शाखा है

 

❍ Psychology शब्द की उत्पति ( गेरेट के अनुसार ) ग्रीक लैटिन भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है।

 Psyche का अर्थ – आत्मा
Logos का अर्थ – अध्ययन करना

 

❍ 16 वीं शताब्दी में सर्वप्रथम ( सुकरात , अरस्तू , प्लेटो )आत्मा शब्द को आधार मानकर  मनोविज्ञान को आत्मा का विज्ञान माना

❍ 17 वीं शताब्दी में इटली के मनोविज्ञान पॉम्पानोजी व थासडारीड ने मनोविज्ञान को मन या मस्तिष्क का विज्ञान माना।

❍ 19 वीं शताब्दी में विलियम वुण्ट , विलियम जेम्स , जेम्ससली , वाइप्स आदि द्वारा मनोविज्ञान को चेतना का विज्ञान माना

 

❍मनोविज्ञान (Psychology) :- गैरिट के अनुसार साइकोलॉजी शब्द लेटिन भाषा के दो शब्दों Psyche तथा logos से बना है।

❍ Psyche का अर्थ आत्मा (Soul) तथा logos का अर्थ का अध्ययन (to study) है। अथार्त Psychology का अर्थ आत्मा का अध्ययन (Study of soul) या आत्मा का विज्ञान (Science of soul) है।

 

 

❍ मनोविज्ञान का इतिहास (History of Psychology)

16वीं शताब्दी में अरस्तु (Aristotle) के प्रयासों से मनोविज्ञान दर्शनशास्त्र (Philosophy) से अलग हुआ इसलिए अरस्तु (Aristotle) को मनोविज्ञान का जनक (Father of Psychology) कहा जाता है।

 

 ❍ अरस्तु के समय मनोविज्ञान को स्वतंत्र रूप से मान्यता मिलने का उल्लेख रायबर्न (Raiborn) अपनी पुस्तक एन इंट्रोडक्शन ऑफ साइकोलॉजी (An Introduction of Psychology) किया।

 

❍  मनोविज्ञान के लिए साइकोलॉजी शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम रूडोल्फ गोईकले (Rudolf Goclenius) ने 1590 में अपनी पुस्तक Psychologia में किया

 

❍ मनोविज्ञान का विकास (Development of Pyschology)

मनोविज्ञान के अर्थ के संदर्भ में समय-समय पर परिवर्तन हुए जो निम्न प्रकार है-

 

❍ आत्मा का विज्ञान (Science of soul)
इस विचारधारा के अनुसार समस्त व्यवहार (behaviour) तथा क्रिया (work) का नियंत्रण आत्मा करती है।

 

❍ आत्मा की स्थिति और स्वरूप स्पष्ट नहीं होने के कारण 16 वी शताब्दी के अन्त में यह परिभाषा नकार दी गई।

❍ इस परिभाषा के प्रवर्तक प्लेटो (Plato), अरस्तु (Aristotle), डेकार्टे (Decarte),तथा सुकरात (Socrates) है।

 

❍  मन या मस्तिष्क का विज्ञान (Science of mind)
इस विचारधारा के अनुसार जीव के समस्त व्यवहार तथा क्रियाओं का नियंत्रण मन या मस्तिष्क करता है।

❍  मन की स्थिति वह स्वरूप स्पष्ट नहीं होने के कारण 18 वी शताब्दी के अन्त तक यह विचारधारा भी नकार दी गई।

❍  इस विचारधारा के प्रवर्तक स्विट्ज़रलैंड के पेस्टोलोजी (Johann Heinrich Pestalozzi) तथा इटली के पोम्पोनाजी (Pietro Pomponazzi) है।

 

 

❍ चेतना का विज्ञान (Science of Conciousness)
इस विचारधारा के अनुसार मनुष्य की चेतन अवस्था मनुष्य की समस्त क्रिया व व्यवहार को नियंत्रित करती है।

❍ अर्धचेतन और अवचेतन व्यवहारों का स्पष्टीकरण ना होने के कारण यह परिभाषा भी 19 वी शताब्दी के अन्त तक नकार दी गई।

❍ इस विचारधारा के प्रवर्तक विलियम जेम्स (William James), विलियम बुन्ट (William Wundt), जेम्स सेली (James Sully), एडवर्ड ब्रेडफोर्ड टीचनर (Edward Bradford Titchener) आदि प्रमुख है।

 

❍  मैक्डूगल में अपनी पुस्तक Outline Psychology इस अवधारणा की आलोचना करते हुए यह कहा की “चेतना बहुत बुरा शब्द” है। जिसका मनोविज्ञान में प्रयोग दुर्भाग्य की बात है।

 

❍  विलियम वुंट (William Wundt) ने 1879 में जर्मनी के लिपजिंग (Leipzig) नामक स्थान पर मनोविज्ञान की प्रथम प्रयोगशाला की स्थापना की है। जिसको कार्ल मार्क्स विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है। विलियम वुंट को प्रायोगिक मनोविज्ञान का जनक (Father of Experimental Psychology) कहा जाता है।

 

❍ अमेरिका की प्रथम मनोविज्ञान प्रयोगशाला (First Psychology Laboratory) की स्थापना स्टैनले हॉल (Stanley Hall) ने की थी।

❍ भारत की प्रथम मनोविज्ञान प्रयोगशाला की स्थापना एन एन सेन गुप्ता (Narendra Nath Sen Gupta) द्वारा कलकत्ता विश्वविद्यालय में की गई।

 

❍ व्यवहार का विज्ञान (Science of Behaviour)
इस विचार धारा के अनुसार मनोविज्ञान मनुष्य के व्यवहार का विज्ञान है। इस विचारधारा के प्रवर्तक मैक्डूगल (William McDougall), वुडवर्थ (Robert S. Woodworth) तथा मन है।

 

❍  व्यवहार मनोविज्ञान (behaviourism) पर सर्वाधिक कार्य वाटसन (John B. Watson) के द्वारा किया गया इसलिए वॉटसन को व्यवहार मनोविज्ञान का जनक (Father of Behaviourism/ Behaviour Psychology) कहा जाता है।

 

❍  मनोविज्ञान को व्यवहार के रूप में सर्वप्रथम परिभाषित करने का श्रेय पिल्सबरी (Walter Bowers Pillsbury) को है।

 

❍ मनोविज्ञान समस्त व्यवहारों का अध्ययन करता है। जिस पर सर्वाधिक नियंत्रण व प्रभाव वातावरण का पाया जाता है।

 

❍    वुडवर्थ (Woodworth) ने मनोविज्ञान के विकास क्रम को परिभाषित करते हुए कहा कि “मनोविज्ञान ने सर्वप्रथम आत्मा का त्याग किया, फिर मन व मस्तिष्क को छोड़ा, फिर अपनी चेतना कोई और अंत में वह व्यवहार को अपनाए हुए हैं”।

 

 

  ❍ मनोविज्ञान की प्रमुख परिभाषाएं (Definition of Psychology)

पिल्सबरी (Pillsbury) के अनुसार

❍ मनोविज्ञान की सबसे संतोषजनक (Satisfactorily) परिभाषा मानव व्यवहार के अध्ययन के रूप में दी जा सकती है।

 

❍  वुडवर्थ (Woodworth) के अनुसार

मनोविज्ञान वातावरण के संबंध में व्यक्ति की क्रियाओं का वैज्ञानिक अध्ययन है।

 

❍  मैक्डूगल (McDougall) के अनुसार

मनोविज्ञान आचरण व्यवहार का यथार्थ (Practically) विज्ञान है।

 

❍ वाटसन (Watson) के अनुसार

मनोविज्ञान व्यवहार का शुद्ध तथा धनात्मक विज्ञान है।

 

❍ स्किनर (B.F. Skinner) के अनुसार

मनोविज्ञान व्यवहार तथा अनुभव का विज्ञान है।

 

❍  विलियम वुंट (William Wundt) के अनुसार

मनोविज्ञान आंतरिक अनुभूतियों की खोज करता है।

 

❍  क्रो एंड क्रो (James Franklin Crow) के अनुसार

मनोविज्ञान मानव व्यवहार (Human behaviour) व मानव संबंधों (Human Relationship) का अध्ययन है।

 

❍  मन (N.L.Munn) के अनुसार

मनोविज्ञान व्यवहार का विधायक विज्ञान है।क्योंकि इसका अध्ययन प्रयोगात्मक विधि से संभव है।

 

❍ एडविन बोरिंग (Edwin Boring) के अनुसार

   मनोविज्ञान मानव प्रकृति के अध्ययन का विज्ञान है।

 

 

❍   मनोविज्ञान के विभिन्न संप्रदाय या स्कुल (School of Psychology)

❍ व्यवहारवाद (Behaviorism)
 वाटसन (Watson), स्किनर (Skinner)

 

❍ संज्ञानात्मकवाद (Cognitivism)
टी बेक (Aaron T. Beck) अल्बर्ट एलिस (Albert Ellis)

 

❍  कार्यात्मकवाद (Functionalism)
विलियम जेम्स (William James), जॉन डीवी (John Dewey) थोर्नडाइक (Thorndaic), वुडवर्थ (Woodworth)

 

 ❍ गेस्टाल्टवाद (Humanistic/Gestalt)
कोहलर, कोफ्का, मैक्स वर्दीमर कार्ल रोगेर्स (Carl Rogers)

 

❍ मनोविश्लेषणवाद (Psychoanalytic)
सिगमंड फ्रायड (Sigmund Freud), होर्नी, एरिक्सन

 

❍   संरचनावाद (Structuralism)
विलियम वुंट (William Wundt) तथा एडवर्ड ब्रेडफोर्ड टीचनर (Edward Bradford Titchener)

 

❍ प्रेरकीय (Hormic Psychology)
मैक्डूगल (McDougall)

 

मनोविज्ञान के सिद्धांत तथा जनक principles and fathers of psychology

मनोविज्ञान के अनेक प्रकार के सिद्धांत हैं, तथा उनके जनक भी भिन्न-भिन्न है, इसलिए यहाँ पर मनोविज्ञान के कुछ प्रमुख सिद्धांत और उनके जनक के बारे में बताया गया है:-

1. आत्म सम्प्रत्यय की अवधारणा – विलियम जेम्स 

2. शिक्षा-मनोविज्ञान के जनक – एडवर्ड थार्नडाइक 

3. प्रयास एवं त्रुटि सिद्धांत – थार्नडाइक 

4. प्रयत्न एवं भूल का सिद्धांत – थार्नडाइक 

5. संयोजनवाद का सिद्धांत – थार्नडाइक 

6. उद्दीपन-अनुक्रिया का सिद्धांत – थार्नडाइक 

7. S-R थ्योरी के जन्मदाता – थार्नडाइक 

8. अधिगम का बन्ध सिद्धांत – थार्नडाइक 

9. संबंधवाद का सिद्धांत – थार्नडाइक

11. बहुखंड या बहुतत्व बुद्धि का सिद्धांत – थार्नडाइक

12. बिने-साइमन बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक- अल्फ्रेडबिने एवं साइमन 

13. बुद्धि परीक्षणों के जन्मदाता – अल्फ्रेडबिने

14. एकखण्ड बुद्धि का सिद्धांत – अल्फ्रेडबिने

15. दो खंड बुद्धि का सिद्धांत – स्पीयरमैन

16. तीन खंड बुद्धि का सिद्धांत – स्पीयरमैन 

17. सामान्य और विशिष्ट तत्वों के सिद्धांत – स्पीयरमैन

18. बुद्धि का द्वय शक्ति का सिद्धांत – स्पयरमैन

19. त्रि-आयाम बुद्धि का सिद्धांत – गिलफोर्ड

20. बुद्धि संरचना का सिद्धांत – गिलफोर्ड

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.