राजस्थान : प्रशासनिक स्वरुप

Spread the love

राजस्थान : प्रशासनिक स्वरुप

 

वर्तमान राजस्थान का निर्माण एक लंबी प्रक्रिया से गुजरा जिसकी शुरुआत 17 मार्च 1948 को हुई राजस्थान राज्य के गठन का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है

प्रथम चरण – मत्स्य संघ की स्थापना दिनांक 17 मार्च 1948 सम्मिलित रियासत भरतपुर धौलपुर अलवर और करौली राजधानी अलवर                            राज्य प्रमुख धौलपुर के महाराजा

द्वितीय चरण – राजस्थान संघ की स्थापना दिनांक 25 मार्च 1948 रियासत बांसवाड़ा बूंदी कोटा आंख डूंगरपुर झालावाड़ शाहपुरा                                      किशनगढ़ राजधानी कोटा राजप्रमुख कोटा के महाराजा

तृतीय चरण – संयुक्त राजधानी के स्थापना दिनांक 18 अप्रैल 1948 रियासत राजस्थान संघ और उदयपुर राजधानी उदयपुर राज्य प्रमुख                           उदयपुर के महाराजा उप राज्य प्रमुख कोटा के महाराजा

चतुर्थ चरण – वृहत राजधानी की स्थापना दिनांक 30 मार्च 1949 रियासने संयुक्त राजस्थान और बीकानेर जयपुर जोधपुर जैसलमेर                                     राजधान जयपुर महाराज प्रमुख उदयपुर के राजा राजप्रमुख जयपुर के महाराजा उप राज्य प्रमुख कोटा के महाराजा प्रथम                               प्रधानमंत्री पंडित हीरालाल शास्त्री

 पंचम चरण – संयुक्त राजधानी की स्थापना दिनांक 15 मई 1949 मत्स्य संघ और वृहद राजधानी को मिला दिया गया

षष्टम चरण – राजस्थान संघ की स्थापना दिनांक 26 जनवरी 1950 एकमात्र प्राचीन बच्ची रियासत सिरोही को गणतंत्र दिवस के दिन                                         मिलाकर संयुक्त वृहत राजस्थान का नाम राजस्थान संघ कर दिया गया सिरोही रियासत की एक तहसील आबू को                                     गुजरात में   मिला दिया गया

सप्तम चरण – राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिश पर केंद्र शासित प्रदेश अजमेर मेवाड़ को भी 1 नवंबर 1956 को राजस्थान में मिला                                        दिया गया इसके साथ आबू तहसील एवं मध्य भारत के मंदसौर जिले को एक क्षेत्र सुनेल टप्पा काबिले राजस्थान में                                    किया  गया एवं दूसरी ओर कोटा रियासत का सिरोज क्षेत्र मध्य भारत में मिला दिया गया राजस्थान संघ का नाम                                           राजस्थान कर  दिया गया

 30 मार्च 1949 को वृहत राजस्थान के रूप में महत्चपूर्ण इकाई का गठन हुआ था इसलिए यह तिथि राजस्थान राज्य के स्थापना दिवस के रूप में मनाई जाती हैं प्रशासनिक दॄष्टि से राजस्थान राज्य को 7 संभागो तथा 33 जिलो में बाटा गया हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.